मां बनने वाली हैं? तो ऐसे चुनें ब्यूटी प्रोडक्ट्स

मां बनने वाली हैं? तो ऐसे चुनें ब्यूटी प्रोडक्ट्स

प्रेगनेंट होने का मतलब है की ढेरों हार्मोनल बदलाव. और ये आपके हार्मोन्स का ही खेल है जिसके चलते आपको स्किन पिगमेंटेशन, इन्फेक्शन्स, बालों की तेज़ बढ़त (जो डिलिवरी के बाद उतनी ही तेज़ी से गिरने लगते हैं) और कमज़ोर नाखूनों जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. पर क्या आपको पता है की आपके ब्यूटी प्रोडक्ट्स आपके बच्चे के स्वास्थ पर बुरा असर डाल सकते हैं? कुछ टिप्स फॉलो करें और बिना परेशानी के इन 9 महीनों का सफर तय करें.
 
1. रेटिनॉएड्स अवॉएड करें
ये ऐसी शक्तिशाली चीज़ें होती हैं जो कुछ ऐंटी-एजिंग मॉश्चराइज़र्स में पाए जाते हैं और स्किन कोलैजेन को नुकसान से बचाते हैं. सुनने में चाहे जितना ही अच्छा लगे पर होने वाली मांओं को इनसे दूर ही रहना चाहिए. प्रेगनेंसी के दौरान ज़्यादा मात्रा में विटामिन A की खपत भी होने वाले बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है. और ओरल रेटिनॉल्स जैसे की isotretinoin (SOTRET, एक तरह का ऐक्ने ट्रीटमेंट), बच्चों में जन्म से ही कुछ विकृतियां पैदा करने के लिए जाने जाते हैं.
 
2. Salicylic ऐसिड से भी दूर रहें
Salicyclic ऐसिड की भारी खपत से भी कई तरह की विकृतियां और प्रेगनेंसी में कॉमप्लिकेशन्स देखीं गईं हैं. फेस और बॉडी पील्स के ज़रिए इनकी काफी मात्रा खून में अबज़ॉर्ब हो जाती हैं, जो प्रेगनेंसी के दौरान एक या एक से ज़्यादा ऐस्पिरिन लेने जैसा है. 2 प्रतिशत से कम मात्रा वाले फेशियल वॉश इस्तेमाल करना सेफ माना जाता है. फिर भी इसे इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श ज़रूर कर लें.
 
ये भी पढ़ें – इन फैशन मिथकों को तोड़ें अभी इसी वक्त.
 
3. नॉन-कॉमेडोजेनिक और नॉन-ऐक्नेजेनिक प्रोडक्ट्स खरीदें
‘नॉन-कॉमोडोजेनिक’ या ‘नॉन-ऐक्नेजेनिक’ वाले मेकप प्रोडक्ट्स और सनस्क्रीन्स का मतलब है की ये ऑयल-फ्री होते हैं और पोर्स बंद नहीं करते और इसलिए ये आपके होने वाले बच्चे पर किसी तरह का बुरा प्रभाव नहीं डालते हैं. ज़िंक ऑक्साइड और टाइटेनियम ऑक्साइड से दूर रहें. आप प्रेगनेंसी के दौरान मिनरल मेकप प्रोडक्ट्स इसेतमाल कर सकती हैं. इन प्रोडक्ट्स में ऐसे इनग्रीडिएंट्स का इस्तेमाल होता है जो त्वचा के ऊपर ही रहते हैं.
 
4. नैचुरल रहें पर ध्यान से
कुछ होने वाली मांएं सॉय या bergamot के तेल का इस्तेमाल अपने स्किनकेयर में करती हैं, ये सोचकर की इनसे कोई नुकसान नहीं होता. जहां सॉय-बेस्ड लोशन्स और फेशियल प्रोडक्ट्स आमतौर पर सेफ माने जाते हैं पर इनके कुछ एस्ट्रोजेनिक इफेक्ट्स होते हैं जो डार्क धब्बों को और खराब कर सकते हैं. इसकी जगह ऐक्टिव सॉय प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें, ये सेफ हैं.
 
5. हेयर कलर से दूर रहें
प्रेगनेंसी के दौरान हेयर कलर से पूरी तरह से दूर रहें. अगर आपको पहले से हेयर कलर से कोई ऐलर्जी नहीं है तो ये आपके और आपके बच्चे के लिए सेफ है. पर आमतौर पर प्रेडनेंसी आपके इम्यूनिटी लेवल्स पर असर डालती है इसलिए अगर आपको स्कैल्प पर खुजली महसूस हो तो इसे अवॉएड करें.
 
6. हेयर रिमूवल का क्या?
जब बात हेयर रिमूवल की हो तो कोई खास इन्ग्रीडिएंट्स नहीं हैं. सिर्फ एक ही रिस्क है ऐलर्जी का. प्रेगनेंसी के दौरान इन प्रोडक्ट्स को अवॉएड करें अगर आपको पहले इनसे ऐलर्जिक रिऐक्शन हो चुका है. अगर आप केमिकल हेयर रिमूवर्स को निर्देशानुसार इस्तेमाल कर रही हैं तो इससे कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. और ये सिर्फ ऊपरी सतह पर काम करता है तो इससे आपके बच्चे को कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. और हां वैक्सिंग भी पूरी तरह से सेफ है.
 
ये भी पढ़ें – ये हैं रानियों के खूबसूरती के राज़.
 
7. और स्ट्रेच मार्क्स?
प्रेगनेंसी के 4 महीने बाद से नियमित तौर पर ऑयल मसाज करने से मार्क्स कम किए जा सकते हैं. ब्रेस्ट्स और जांघों के बीच फंगल इन्फेक्शन के चलते रूखापन हो जाता है. वज़न बढ़ने से ये दिक्कत और ज़्यादा बढ़ जाती है. इसलिए ऐसी जगहों को हमेशा तौलिए से अच्छी तरह से सुखाएं और फिर Abzorb जैसे ऐंटी-फंगल पाउडर इस्तेमाल करें. अगर फिर भी खुजली होती रहे तो अपनी गायनकॉलजिस्ट से परामर्श करें.
 
Dr Shehla Agarwal हैं नई दिल्ली के Mehak - The Derma and Surgery Clinic की डायरेक्टर और कंसल्टेंट डर्मैटोलॉजिस्ट. इन्हें त्वचा और बालों से जुड़ी परेशानियां हल करने में 15 साल से भी ज़्यादा का अनुभव है.

इनके और ब्लॉग्स पढ़ें Fashion101.in के ब्लॉग्स पेज पर.

 

This page printed from: https://www.fashion101.in/news/FAS-BLOG-skin-and-hair-tips-to-follow-during-pregnancy-5170299.html?seq=1